SEO Kya Hai? SEO Kaise Karte Hai? Search Engine Optimization In Hindi

SEO kya hai?SEO meaning in hindi? ये कुछ ऐसे प्रश्न है जो हर webmaster या ब्लॉगर केे दिमाग में घूमते रहते है, विशेषकर डिजिटल वर्ल्ड मेें content प्रदान करने वाले new bies यानि नये लोगों के दिमाग में। Content Marketing के फील्ड में बने रहने के लिए इन प्रश्नों यानि Search Engine Optimization का आना जरूरी है।

Google या अन्य search engines के 1st page पर आने के लिए articles को सही तरीके से optimized करना पङता है क्योंकि विजिटर्स mostly उन्हीं Posts पर विजिट करते है जो search engine के 1st page पर rank होती है और गूगल महाशय के 1st page पर आने के लिए SEO Optimized Content जरूरी है।

ऑनलाइन बिजनेस या ब्लॉगिंग में सफल होने के लिए Quality Content के साथ Articles को Rank कराने यानि Site पर Traffic बढ़ाने के लिए SEO के बारे में जानकारी रखना necessary है।

SEO एक ऐसा Large Topic है जिसके कई फैक्टर्स है और इसके हर पहलू के बारे में बात करना एक पोस्ट में सम्भव नहीं है। वैसे भी SEO कोई fix नहीं है, यह Google Algorithms के अनुसार बदलता रहता है लेकिन SEO के Basics हमेशा समान रहते है।

आइये जानें कि एसईओ क्या है...?

SEO Kya Hai? (What Is SEO In Hindi)

Seo kya hai, seo in hindi, seo meaning in hindi, what is seo in hindi, seo hindi

Full form of SEO = Search Engine Optimization

SEO एक ऐसा process है जो किसी ब्लॉग, वेबसाइट या वेबपेज की search engines में online visibility को प्रभावित करता है, बिना किसी Paid result के।

आसान शब्दों में कहें तो...


सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन online content या blog posts को optimize करने का एक तरीका है ताकि सर्च इंजन पोस्ट से रिलेटेड keywords पर उस पोस्ट या content को search results में top positions पर दिखा सकें।


आइये एक उदाहरण से समझते है...

जब हम SEO की बात करते हैं तो यहां दो पार्ट आते हैं। एक है search engine और दूसरा सर्च इंजन पर खोजने वाला यानि searcher !

मान लीजिए आपके ब्लॉग पर एक आर्टिकल है जिसमें बताया गया है कि ‛हिंदी ब्लॉगिंग क्या है?’ । ...तो अब आप चाहते होंगे कि जब कोई यूजर गूगल पर ‛हिंदी ब्लॉगिंग’ कीवर्ड को सर्च करें तो आपके ब्लॉग या साइट का आर्टिकल Google पर टॉप रिजल्ट में दिखें।

गूगल में टॉप रिजल्ट में दिखने के लिए बात आती है Search Engine Optimization की। अगर आपका आर्टिकल यूजफुल, रिलेवेंट व यूजर के लिए उपयोगी है तो SEO एक जादू की तरह है जिस पर काम करके आप ‛हिन्दी ब्लॉगिंग’ keyword के लिए अपनी पोस्ट को Google में 1st page पर दिखा सकते है।

अगर आपकी साइट/ब्लॉग seo optimized है और quality content प्रदान कर रही है तो इस बात के ज्यादा chances है कि वो Google पर top position पर rank करें। अगर आप ऐसा करने में सफल हो जाते है तो आपके ब्लॉग पर traffic बढ़ने के साथ-साथ income भी increase होती है।

SEO के बारे में हम यह सकते है कि इसका सीधा संबंध search engines से होता है और यह ब्लॉग या वेबसाइट को गूगल इत्यादि search engines में top पर लाने के तरीकों के बारे में बताता है।

एसईओ के प्रकार - SEO Types in Hindi

Seo types, seo in hindi

SEO को दो भागों में बाँटा जा सकता है :-

 1. On Page SEO
 2. Off Page SEO


1. On Page SEO

'On Page' search engine optimization वेबसाइट या ब्लॉग को search के लिए optimize करने का एक process है। इसमें वेबसाइट को search engine friendly बनाने के लिए काम किया जाता है।

आसान शब्दों में इसे कुछ इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है - वो सभी चीजें जो हम वेबसाइट पर करते है जिससे website की ranking को boost मिलता है, On Page SEO के अन्तर्गत आती है।

Quality Content, Keyword Researching, Site Speed, Page Structure, Url Parameter etc. कई फैक्टर्स है जो ऑन पेज एसईओ में आते है।

On Page SEO कैसे करें?

यहाँ हम कुछ ऐसे key factors की बात करेंगे जो On Page SEO में include है और ये search engines & user friendly है।

१) Content - जैसा कि कहा जाता है कि ‛content is king’ और यह सही भी है क्योंकि एक विजिटर तभी खुश है जब उसे सही कटेंट मिले। So never compromise with the quality of content.!

अतः अपने viewers के लिए अच्छा content लिखें, कहीं से कॉपी-पेस्ट न करें क्योंकि यही वो चीज है जो users को आपकी साइट पर रोकेगी और revisit करने के लिए मजबूर करेगी🙂।

२) Keyword Research - यह एक ऐसा factor है जो काफी उलझन में डालता है लेकिन सही कीवर्ड का चयन पोस्ट कराने में जरूरी है इसलिये पोस्ट राइटिंग से पहले एक सही keyword को choose कर लें जो beneficial हो।

३) Post Title - पोस्ट टाइटल On Page SEO में एक बहुत जरुरी चीज है। टाइटल में target keyword use करना, modifier words का उपयोग, title length का ध्यान रखना आवश्यक है।

४) Site Speed - बेहतर On page SEO के लिहाज से ब्लॉग या वेबसाइट की loading speed अच्छी होनी चाहिये जिससे विजिटर्स साइट को जल्द access कर पायें। 

इस बात का धयान रखें कि वेबसाइट का लोडिंग टाइम 3-4 seconds से ज्यादा न हो। GTMetrix से Site Speed चेक कर सकते है।

इनके अलावा और भी ऐसी चीजें हैं जो On Page SEO को प्रभावित करती है जैसे कि post url, linking, alt tag, description, headings, keyword density, responsive design, user intent etc. !

Also Check: On Page SEO के बारे में पूरी जानकारी।

2. Off Page SEO

वेबसाइट या ब्लॉग से बाहर किये गये वो कार्य जो search engine में वेबसाइट के लिए result page को प्रभावित करते है, Off Page SEO में आते है।

इसकी परिभाषा को कुछ यूं भी दिया जा सकता है:
वेबसाइट की बाउंड्री के बाहर होने वाली वे activities जो वेबसाइट या ब्लॉग की reputation और search engine में  page rank बढ़ाती है, off page seo कहलाती है। 

On page seo वेबसाइट पर किया जाता है जबकि off page seo outside the website किया जाता है।

Off page optimization में मुख्यतः blog promotion आता है। उदाहरण के लिए सोशल शेयरिंग, कमेंटिंग इत्यादि।

अगर आप किसी ब्लॉग पर गेस्ट पोस्ट कर रहे हैं तो यह ऑफ पेज एचईओ का पार्ट है।

Off Page SEO कैसे करें?

आइये जानें ब्लॉग के लिए कुछ Off Page Optimization Tips के बारे में है...

१) Link Building - यह ऐसा तरीका है जो हर ब्लॉगर को अपनाना चाहिए। गेस्ट ब्लॉगिंग link building का शानदार तरीका है। इससे वेेेबसाइट को backlink मिलता है जो blogging में बहुत अहमियत रखता है। Backlinks हमेशा High Quality वाली साइट से बनायें।

१) Blog Commenting - अपने ब्लॉग से रिलेटेड blogs पर जाकर comment कर सकते है और उसमें अपनी वेबसाइट का link दे सकते है। spam commenting से बचें।

३) Social Sharing -  सोशल मीडिया एक बहुत बड़ा प्लेटफॉर्म है जहां से आप अपने ब्लॉग के लिए काफी ट्रैफिक पा सकते हैं। अपने ब्लॉग या वेबसाइट का सोशल साइट्स पर पेज, ग्रुप इत्यादि बनाएं और अपने कंटेंट को शेयर करें।

४) Join Q&A Forums - Quora जैसे forums को join करें और वहां पर लोगों की हेल्प करने के साथ-साथ अपनी साइट का प्रमोशन करें, link submit करें।

कुछ अन्य off page optimization tips जैसे कि Bookmarking, Directory Submission, Pinning etc. है।

Note :- वेबसाइट या ब्लॉग पर SEO करने के तरीकों को दो भागों में बाँटा जा सकता है।

1. White Hate SEO - Natural या Organic तरीके से वेबसाइट का Optimization 

2. Black Hat SEO - keyword stuffing या अन्य किसी ऐसे तरीकों से वेबसाइट को रैंक कराना जो Google की शर्तों के अनुसार न हो।

इन दोनों के मध्य Grey Hat SEO भी होता है।

Blog के लिए SEO क्यों जरूरी है?

किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को बनाने के पीछे उद्देश्य उस पर पब्लिश होने वाले कंटेंट या सर्विस को लोगों तक पहुंचाना होता है।

वेबसाइट या ब्लॉग बनाना आसान है लेकिन इसे सर्च इंजन में टॉप रिजल्ट में लाना थोड़ा मुश्किल है। SEO ही वो सर्वश्रेष्ठ तरीका है जो वेबसाइट को सर्च इंजन में ला सकता है और इसकी Search Preference बढ़ा सकता है।

भले ही वेबसाइट पर कितनी मेहनत कर लें लेकिन SEO के बिना result पाना आसान नहीं है इसलिये SEO और इसके basics सीखना किसी भी webmaster या ब्लॉगर के लिए जरुरी है।

SEO Importance ~
  • SEO आपके कंटेंट को ऑनलाइन वर्ल्ड में आसानी से प्रस्तुत करता है और सर्च रोबोट्स को कंटेंट समझने में आसानी होती है।
  • Mostly internet user सर्च इंजन में दिखाए गए टॉप रिजल्ट को ही देखते हैं इसलिए search engine optimization के जरूरी है क्योंकि बिना इसके गूगल के फर्स्ट पेज में रैंक नहीं पा सकते और ना ही ब्लॉग या वेबसाइट का ट्रैफिक बढ़ा सकते है।
  • अगर आप अपने कंटेंट को अच्छे से ऑप्टिमाइज्ड करते हैं तो यह यूजर एक्सपीरियंस (user experience) को बढ़ाता है।
  • Search engine optimization के जरिए ब्लॉगिंग competition में टिका जा सकता है।
  • इससे ब्लॉग या वेबसाइट की ट्रैफिक में बहुत बड़ा सुधार देखने को मिलता है।
  • अगर आप कंटेंट को क्वालिटी के साथ अच्छे से ऑप्टिमाइज्ड कर सर्च इंजन में फर्स्ट पेज पर रैंक करा देते हैं तो इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि कोई दूसरा ब्लॉगर आपकी पोस्ट या कंटेंट के लिंक को अपनी पोस्ट या ब्लॉग पर दें। इससे इसे ब्लॉग की अथॉरिटी बढ़ती है और कई तरीकों से ब्लॉग को benefit मिलता है।


Conclusion

अगर आप इन तीन शब्दों के महत्व को जान जाते हैं तो यह आपके ब्लॉग या वेबसाइट की Online Presence में चार चांद लगा सकता है।

अगर SEO आपके लिए नया शब्द या टर्म है तो आप गूगल की बेसिक एसईओ गाइडलाइन्स या एसईओ स्टार्टर गाइड पढ़ें।

अतः अगर आप SEO बारे में कम जानते हैं या नहीं जानते हैं तो आज से ही इसे सीखना शुरू कर दीजिए और इसे अपने ब्लॉग या वेबसाइट में implement करना शुरू कर दो।

I Hope आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी जिसमें हमने SEO Kya Hai के बारे में जाना। अगर कोई प्रश्न है तो Comment Box में जरूर पूछें।

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ

Don't try to spam.